• hindinama 35w

    @deovrat जी की रचनाएं पढ़ें,
    हिन्दी लेखनी को बढावा दें,

    बहुत अच्छी वंदना लिखी है देव जी ने,
    इस विकट घड़ी में प्रभु ही है जो समस्त समस्या का समाधान कर सकते है,

    हमे अपनी पोस्ट में टैग करें #Hindinama

    Read More

    वंदना

    घट घट वासी हे अविनाशी...चमत्कार दिखलाओ।
    बहुत व्यथित हैं भक्त तुम्हारे कृपा वृष्टि बरसाओ।।
    घट घट वासी हे अविनाशी ....

    मायातीत हे लीलाधारी कण कण तू ही समाया।
    माया का सब खेल रचाया, उसमें मन भरमाया।।
    सब अंधियारे दूर करो प्रभु कोटि सूर्य बन जाओ।
    बहुत व्यथित हैं भक्त तुम्हारे कृपा वृष्टि बरसाओ।।
    घट घट वासी हे अविनाशी ....

    जबसे जन्म लिया धरती पर बस तेरा ही सहारा।
    गिनती की जो सांसें दी, हर सांस पे नाम तिहारा।।
    भाग्य विधाता जीवन दाता, प्राणवायु बन जाओ।
    बहुत व्यथित हैं भक्त तुम्हारे कृपा वृष्टि बरसाओ।।
    घट घट वासी हे अविनाशी ....

    अश्रुधार के निर्मल जल से निसदिन चरण पखारुं।
    "अयन" तुम्हीं हो मेरे अपने.. कातर तुम्हें पुकारूं।।
    हे अभ्यंकर अभयदान दो, ज्ञान चक्षु बन जाओ।
    बहुत व्यथित हैं भक्त तुम्हारे कृपा वृष्टि बरसाओ।।
    घट घट वासी हे अविनाशी ....
    ©Deovrat