• mamtapoet 8w

    #rachanaprati120
    @anandbarun ,@anusugandh,@piu_writes
    जब जब मुझसे निकलकर मैं आज़ाद हुई,।
    तब तब मैं ख़ास हुई।

    Read More

    बचपन में जब स्कूल में पहली बार
    Drawing compitition में
    प्रिंसिपल से इनाम मिला,
    लगा जैसे मुझको रब ने कुछ खास दिया।
    जब कॉलेज में कलेक्टर से, ट्रॉफी मिली,
    सच मन को एक नई अनुभूति मिली।
    भाई के विवाह में जब
    अपनी ही कविता को
    स्वयं का स्वर दिया,
    तालियों से हर्ष वंदन हुआ,
    इन सब अवसर पर मम्मी पापा के चेहरे जो खिले,
    यूँ लगा जैसे रब से मुझे कुछ आशीर्वाद विशेष मिले।