• aakash1984 76w

    उसके वस्ल के दिन अपने फ़िराक़ में गुजारें मैंने,
    हर बार प्यास के आगे अपने बदन का सहरा रखा।।
    ©aakash1984