• word_of_sorrow 121w

    हो कहाँ के तुम, ना तुम्हें देखा हैं
    जो ना नसीब मिरे हाथों कि रेखा है

    ©word_of_sorrow