• poetryshala 82w

    झूठी शान के परिंदे ही ज्यादा फड़फड़ाते हैं,
    बाज़ की उड़ान में कभी आवाज़ नहीं होती।
    ©poetryshala