• devdiwan 53w

    ज़ात ,धर्म,रंग, अमीरी ,गरीबी
    सब उस खुदा की मर्ज़ी है
    बांटकर जंग करवाना
    ये तो इंसान की खुदगर्ज़ी है

    ©Dev ✍