• jee_tu 6w

    तू संसार

    बात हो तेरी मैं ज़िक्र हो जाऊँ
    तुझे छू लूं तो महकता इत्र हो जाऊँ
    तेरी एक नज़र मुझपर, मैं एक नायाब चित्र हो जाऊँ

    पास आऊँ तेरे, जल कर धुआं हो जाऊँ
    सूर्ख गाल तेरे मेरे होठों पर, मैं जन्नत-ए-खास हो जाऊँ
    पलक उठे तेरी, मैं तेरी नज़र हो जाऊँ
    गर झुके तो, इनमें कैद हो जाऊँ

    तेरी एक धड़कन,मैं हर सांस जी जाऊँ
    ये रेशम बालों की डोर, मैं पतंग हो जाऊँ
    तेरे मन में मेरी तरंग, मैं मन-मलंग हो जाऊँ

    तेरे ख़यालों में शामिल तो, अमर दास्तान हो जाऊँ
    अफ़साना मेरा तुझसे जूड़े, एक खूबसूरत गज़ल हो जाऊँ

    होंठ तेरे मेरे होंठों पर, मैं एक अजीज़ अल्फाज कहलाऊँ
    तेरा जिस्म मेरे जिस्म पर, मैं पल में संसार बन जाऊँ
    दफना लूं तुझे बाहों में, समंदर हजार बन जाऊँ

    तेरे सुडौल बदन का स्पर्श, मैं तेरा ठिकाना हो जाऊँ
    तेरी बाहों का हार गले में, मैं संसार जीत जाऊँ
    तेरा एक कदम मेरी ओर, मैं आशियाँ हो जाऊँ
    तेरा एक करवट मेरी तरफ, मैं हसीन मंज़िल बन जाऊँ
    अपने अस्तित्व पर बड़ा गुरूर था मुझे अब तक
    तेरा अंश पा लूं तो सूकून बन जाऊँ

    ©jee_tu