• shailesh_pathak07 169w

    हमदर्द

    जिसको समझें हो हमदर्द अभी
    वो तंज कभी कस जाएगा
    जो आखें नम होंगी तभी
    उसपे तक हस जाएगा

    एक जैसे ना होते सभी
    तू सबको कैसे खुश रख पाएगा
    तूने ये सोचा नहीं
    यूं दो पल में बस यूं कभी
    ये प्यार कैसे हो जाएगा

    दुनिया के दिल की बातें सभी
    खुदा नहीं तू जो जान जाएगा
    हमने जाना जान ले तू भी
    हमदर्द की आदत पड़ जाएगी
    तो दर्द बढ़ता जाएगा
    ©shailesh__pathak