• nisha45 8w

    रेखाएं 'तकदीर' और तकदीर 'जिन्दगी' लिखती है;
    ऐ खुदा! तेरी 'रहमत' और मेरा 'सब्र' आखिर कब फलती है।।
    ©nisha45