• spoiledwifeslifediary 61w

    मे इक नारी हू

    बेटी हूँ
    बेचारी नहीं
    आचार विचार से सशक्त हू
    लाचार नही
    स्वाभिमानी हू
    अहंकारी नहीं
    आदर देना जानती हू
    निरादर नही
    मेरा हक जानती हू
    दुसरों पे हक जमाना नही
    शादी करना चाहती हू
    गुलामी नही
    ज़ज्बाती हू
    कमजोर नही
    इक पत्नी हू
    गलत बातों की साथी नही
    हमसफ़र हू
    सफर मे मिली जानकर नही
    प्यार से लड़ती हू
    झगडती नही
    ब्याह के इस द्वार आयी हू
    कर्जदार नही
    सुख दुख की साथी हू
    दुखी नही
    प्रेम मय हू
    प्रेम मे गुमशुदा नही
    कई रिश्ते निभाती हू
    सिर्फ भार्या नही
    सन्मान देना जानती हू
    बेवजह झुकना नहीं
    सामनाधिकारी हू
    सिर्फ अर्धांगिनी नही
    बराबरी का प्रमाण हू
    असमानता का नही
    सहम तो जाती हू
    पर सहमी सी छुई मुई नहीं
    में इक माँ हू
    बस गृहणी नहीं
    गुण देना जानती हू
    अवगुण नही
    रसोई मे निपुण हू
    रसोइया नहीं
    पढ़ाई लिखाई जानती हू
    अनपढ़ नहीं
    अँग्रेजी मे कमजोर हू
    वेदों मे नही
    आत्मनिर्भर हू
    किसी पर निर्भर नही
    मे इक नारी हू
    बराबरी का प्रमाण हू
    ©spoiledwifeslifediary
    Ar. Rashmi S Lathi