• poetryshala 82w

    ज़िंदगी की तपिश को सहन किजिए जनाब,अक्सर वे पौधे मुरझा जाते हैं, जिनकी परवरिश छाया में होती है।

    ©poetryshala