puneetkumarpk

If you don't know about me and myself than feels the nature because it's like me .

Grid View
List View
Reposts
  • puneetkumarpk 1w

    जब हम सब तरह से टूट जाते है रास्ते नजर नहीं आते है फिर कुदरत आपने रूप देखती हैं हर पल एक नई दिशा देखती है हर पता हर कली अपने आप में शामिल हर मुश्किल हर कमी को आपके सामने प्रस्तुत कर देती है और बस यहीं चाहती है अभी बहुत कुछ सीखना बाकी है अभी तो जीना बाक़ी है अभी जीने को जिदंगी काफी है ।


    ©puneetkumarpk

  • puneetkumarpk 4w

    हां कुछ लोग ऐसे भी थे जिंदगी में जो हमे कभी समझ नहीं पर हम उने आज भी सही समझते हैं और समझते रहे गए वो सही अपनी जागा हमे अच्छा लगता हैं कि वो खुश और संतुष्ट भी है हम उनसे बात नहीं कर सकते न नाम ले सकते है उनसे दूर रह कर हम भी खुश रह सकते हैं और उने उनकी खुशी पर हम उने आज भी मन में बधाई दे सकते हैं
    हम सबको सब कुछ नहीं समझा सकते हैं बस सब के लिए दुआ कर सकते हैं


    ©puneetkumarpk

  • puneetkumarpk 4w

    Why I am

    Why i born on this planet
    Why i have religious with God
    Why i have name with cast
    Why i have heart and feelings
    Why i have brain with understanding
    Why i have soul without soulmate


    ©puneetkumarpk

  • puneetkumarpk 4w

    No need to explain anything else everything else in the front of you

    ©puneetkumarpk

  • puneetkumarpk 5w

    THE SUN CAN'T HEALS ME, THE MOON FEELS ME. THE MIND AFRAID ME, THE HEART HURT ME


    ©puneetkumarpk

  • puneetkumarpk 5w

    There's always light after the dark
    It's dark night and darktime


    ©puneetkumarpk

  • puneetkumarpk 5w

    हम कभी कभी अंधेरों में भी उजाले को ढूंढते हैं जब खुद में देखते हैं तो सबसे सबसे ज्यादा अंधेरा यही दिखाई देता है



    ©puneetkumarpk

  • puneetkumarpk 5w

    जो भी किया दिल से किया बीना कुछ सोचे समझे
    जिसका भी किया या जिसके लिए भी किया दिल से किया अपने से बडकर सबका साथ दिया।

    पर न जाने केयू जब खुद का सोचने लगा तो उसे पहले ही सबने खुद से दूर कर दिया न जाने केयू इतना मजबूर कर दिया और फिर से हमें अकेला खड़ा कर दिया।।

    ©puneetkumarpk

  • puneetkumarpk 6w

    सब ठीक ही था न जाने फिर क्या बात हो गई
    हवा का झोका आया और बिन मौसम बरसात हो गई
    जिंदगी ऐसे बदली मेरे पलक झपकते ही न जाने कब
    खुशी में दिन गुज़रा भी गए और गम भरी रात हो गई
    न जाने कब क्या हुआ कुछ यूं पता नहीं चला कब
    खुशी की लहर गई और आशुओ का सैलाब उमड़ा।


    ©puneetkumarpk

  • puneetkumarpk 6w

    तुम जितनी दूर जा रही हो
    अपने रिश्तों के आगे झुक रही हो
    हम तुमरे उतना ही करीब आ रहे है
    तुम हमरी नजरों और अधिक समान पा रही हो
    अपनी जिंदगी कुरबान करके,
    अपने रिश्ते बच्चा रही हो
    अपने प्यार के बदले अपने मां बाप के लिए
    अपने आप को यू न्योछावर कर रही हो
    हमारे लिए और भी समान बड़ा रही हो
    दिल तो बस यही करता हम तेरे हो जाए
    माना की रिश्ते हमें माने नहीं इसके हम
    आपके न हुई और अगर हम आपके हुए
    हम बस तेरे हैं तेरे लिए ही रहे गए चाहे
    तुम जहा भी हो हम तुमसे है तुमसे ही रहे गए
    आखरी सांस तक इंतजार करें गए
    हम तुमसे दूर होकर भी तुमरे रहे गए

    ©puneetkumarpk