sawanthakur

एक शायर....✍

Grid View
List View
Reposts
  • sawanthakur 175w

    याद

    सुना है मुझे वह भुलाने लगे हैं..... क्या हम उन्हें याद आने लगे हैं.... जब लिखा नहीं था मुझे अपने दिल पर.....फिर मेरा नाम दिल से क्यों मिटाने लगे हैं.....जब परवाह नहीं थीं मेरी जिंदगी की .....फिर मेरी मौत पे अश्क क्यो बहाने लगे हैं....जब था सामने प्यार जताया गया ना.... मेरे बाद प्यार वह मुझसे जताने लगे हैं.....सुना है मुझे वह भुलाने लगे हैं..... क्या हम उन्हें याद आने लगे हैं.....!!!!

    ©सावन ठाकुर

  • sawanthakur 175w

    प्यार

    दिल हारने को ....ना मन कभी तैयार होता....ना तुम आते....ना हमको प्यार होता....!!!!

    ©सावन ठाकुर

  • sawanthakur 193w

    अश्क

    भुल जाता तुम्हें अगर तुम मेरे ज़हां नहीं होते....ना तुम्हें याद करता खाब मेरे यूंही तबाह नहीं होते....ना शब अटका होता हमारी आंखों में.... तेरे लफ्ज़ तुम्हारी तरह बेवफा नहीं होते.... काश अकेले रहते हमेशा समंदर की तरह....नदी कि तरह तुझमें फना नहीं होते.... तूं भी आजाद होता मेरी यादों से ....काश अश्क तेरी याद में कभी गिरे नहीं होते....!!!!

    © सावन ठाकुर

  • sawanthakur 197w

    भारतीय युवा

    दुनिया में इतिहास बनाने हम निकले.... जिंदगी को खुशीयों से सजाने हम निकले.... मां बाप की बातें जो दिल में दबा कर रखीं थीं.... सभी उन बातों को दोहराने हम निकले....!!!!

    इस जग से वह किरदार हम बनकर निकले हैं.... नादान से समझदार हम बनकर निकले हैं.... जो देखे सपने भारत ने वह दिल के अंदर है....अब शांत है नदियां दिल में उठा समंदर है.... समाजों का संस्कार है बनके हम निकले....इस भारत का दिदार है बनकर हम निकले....!!!!

    © सावन ठाकुर

  • sawanthakur 197w

    किमत

    तुझे याद करने की अब जहमत ना करेंगे.... दोबारा प्यार करने की तुझसे हिम्मत ना करेंगे.... बेंच देगें दिल अपना कोड़ीयो के भाव....अब फिर से तेरे प्यार की कभी किमत ना करेंगे.....!!!!!

    © सावन ठाकुर

  • sawanthakur 197w

    आशिक

    आज कल के आशिक भी कमाल करते हैं....बात मोहब्बत की करते हैं पर खुबसूरत शक्लों पे मरते हैं.....!!!!!

    © सावन ठाकुर

  • sawanthakur 198w

    धड़कन

    गये है वह जबसे ....असर हो रहा है तबसे....कल से दिल पुछ रहा है.... धड़कना बंद करूं मैं कबसे ....!!!!

    © सावन ठाकुर

  • sawanthakur 198w

    समंदर

    साथ उसके जीना था पर उसे गवारा ना हुआ....वह हर महफ़िल में शामिल था बस सिर्फ हमारा ना हुआ....वह फुलों में रह कर भी मिठा ना हो सका....और हमारा दिल समंदर में रह कर भी कभी खारा ना हुआ.....!!!!

    © सावन ठाकुर

  • sawanthakur 198w

    तबाह

    हर दर्द को मेरे वह जवां कर गए.... आंसुओ को मेरा गवाह कर गए.... पत्थर था दिल फिर भी टुट गया.... जाने किस तरह से वह हमको तबाह कर गए.....!!!!

    ©सावन ठाकुर

  • sawanthakur 198w

    हमदर्द

    औरों का खुन गर्म हमारा सर्द निकला....ग़म बहुत मिलें हमको ज़माने में....पर देने वाला भी हमारा ही हमदर्द निकला....!!!!

    © सावन ठाकुर