shaill

Just started writing to know myself, to feel my thoughts and to express my heart.

Grid View
List View
Reposts
  • shaill 38m

    मत भूलना उनकी सहादत,
    जब तुम दो तिरंगे को सलामी,
    जाँ गवाई थीउन सब ने,
    मिटाने को वो गुलामी।
    ©shaill

  • shaill 12h

    मन की गांठ खोलकर,
    पुराने किस्से भूलकर,
    फिर एक कोशिश कर,
    रिश्तों की दूरी कम कर।
    कमियाँ तो होती हैं सबमें,
    देख उनको दूरी न कर,
    साथ निभाया हैं कल तक,
    अब हाथ झटक के न बढ़।
    दूरियां बढ़ाने वाले कई होंगे,
    दरार भी कई डालेंगे रिश्तों में,
    जोड़ने वाला शायद ही कोई मिले,
    तु जिद्द में खुद को मजबूर न कर।
    ©shaill

  • shaill 1d

    छुओ कोई भी बुलंदी तुम,
    पाओ चाहे कोई सिंघासन,
    उल्लास आनंद की अनुभूति हो,
    अभिमान को मन में न बैठाना तुम।

    चाहे तेरा आकार हो विशाल,
    हो तेरे पीछे चाहे कई हजार,
    लोगों का विश्वास न टूटने देना तुम,
    आस की लौ को न बुझने देना तुम।

    करना तुम अनुसरण महान हृदय का,
    आनंद की अनुभूति बांटना तुम,
    समानता का नवीन प्रवाह करना तुम,
    चहूँ और आनंद उल्लास बाँटना तुम।

    ज्ञान का समागम कर प्रकाश बाँटना,
    रोशन हर हृदय को करना तुम,
    मद लोभ के जाल में न उलझना,
    इंसानियत से पथविहीन न होना तुम।
    ©shaill

  • shaill 1d

    हाथों में साजे मुरलिया,
    उससे श्याम धुन बाजे,
    घुँघराले बालों में मोरपंख साजे,
    श्यामवर्ण रूप सुनहरा उनका,
    चेहरे में चित्तचोर के मुस्कान साजे,
    ऐसी मोहनी सूरत मोरे श्याम की,
    मन मस्तिक में मोरे बस वो ही विराजे।
    ©shaill

  • shaill 1d

    कुछ कहने को नहीं होता,
    एक पल स्तब्ध कर जाता है,
    कभी किसी के इजहार से,
    कभी किसी के इनकार से।

    जिंदगी पल में कभी सिमटती है,
    कभी एक क्षण में बिखर जाती है,
    खुशियों का दौर गुजरता है पल में,
    दुख के पल सताते हैं जीवन भर।
    ©shaill

  • shaill 2d

    नव भोर चढ़ा नवल दिवस मिला,
    उठ कर्म कर कुछ पुरुषार्थ कर,
    ख्वाब देखे बहुत शिकवे किये बहुत,
    चल उठ बढ़ा कुछ तो काम कर।

    गिरती बूँदों से सिंचित कर पथ,
    कर प्रहार तू हार का प्रतिकार कर,
    हौसला भर और खुद को तैयार कर,
    भेद सकता है लक्ष्य यह स्वीकार कर।

    न भर गुस्सा तू प्रण कर उसे शांत कर,
    राह में गिरा तू हार कर उठा भी है तू,
    मत हार हालात से फिर तू प्रयास कर,
    उम्मीदों को न हारने दे तू फिर हिम्मत कर।

    जब तक है स्वास तू खुद का विहान बन,
    प्रतिकूल हालात से रख भरोसा तु लड़,
    कर मदद खुद की न उम्मीद दूसरों से कर,
    मुश्किलों को भेद कर संकल्प ले आगे बढ़।
    ©shaill

  • shaill 2d

    कल हो न हो।

    जब वक्त आएगा तो जाना पड़ेगा,
    एक सांस भी तू खरीद न पाएगा,
    जो भो कमाया वो काम न आएगा,
    बस अफसोस के साथ सब छोड़ जाएगा।
    ©shaill

  • shaill 3d

    लिखी जा रही है,
    ये कैसी कहानी,
    डरा हर कोई है,
    सहमी जवानी।

    एक नया वायरस,
    कहर ढा रहा है,
    जीवन की जंग में,
    हर इंसां डरा है।

    बेबसी आँखों से,
    कब तक बहेगी,
    जिंदगी हमारी,
    ये सहमी रहेगी।

    न उम्मीदी तो,
    हर तरफ है,
    आफत का मंजर,
    हर तरफ है।

    कब तक यह भय के,
    बादल रहेंगे,
    कब तक बेचारे,
    सहमें रहेंगें।

    हर तरफ देखो,
    हताशा बड़ी है,
    जिस तरफ देखो,
    आफत खड़ी है।

    हिम्मत जुटा लो,
    लड़ाई बड़ी है,
    छटेंगे ये बादल,
    कल सुबह नई है।

    बाहर है तूफान,
    घर में रहो तुम,
    खुद को बचाओ,
    सयंम धरो तुम।

    कहे कोई कुछ भी,
    मगर सच यही है,
    सच्ची हो कोशिश,
    जीतती जिंदगी है।

    चलो उठो संभलो,
    घबराना नहीं है,
    मिल कर लड़ेंगे,
    समस्या बड़ी है।

  • shaill 4d

    Memories

    Memories bring along,
    Flashback with smile and tear,
    Some miseries some traps,
    Redolence of those simple food,
    The taste the mother's delicacies,
    The flavours and freshness of village,
    The naughty ness the craziness,
    The day dreaming the polite concerns,
    They bring back rollercoaster of past,
    The emotions the affection we lost,
    That wait for festive dress,
    Picnic the melas moments without stress,
    Ah Memories you bring back the lost me.
    ©shaill

  • shaill 5d

    Be a torch bearer,
    Hold you head high,
    Guide yourself to a place,
    Were love and care is in air,
    Where there is no discrimination,
    Where there is no fear,
    Where knowledge is shared,
    Beyond boundaries without limitation,
    Where you hunt perfection,
    Where creativity is cherished,
    Where mind is led forward,
    Responsibility is self owned,
    Where thoughts flow free towards action,
    Where words come out with meaning,
    Where the dawn energises everyone,
    To count the day with new efforts,
    Where you sleep with satisfaction.
    ©shaill