Grid View
List View
  • shanti_devi 16w

    महिला दिवस

    सबके लिए मरने से पहले,
    ख़ुद अपने लिए तू जीना सीख।
    ज़हर पिलाए तुझे ये दुनियां,
    उससे पहले तू अमृत पीना सीख।।
    रह कर भरोसे में किसी के तू-न अपना अपमान कर।
    सबसे पहले निज जीवन में तू-
    ख़ुद अपना सम्मान कर।।
    तूफ़ानों में तू अब दिए जला।
    न कह सके तुझे कोई अबला।।
    न रह सके तेरे मन में अब कोई भी टीस।
    सबके लिए मरने से पहले, ख़ुद अपने लिए तू जीना सीख।।
    ©shanti_devi

  • shanti_devi 28w

    मिस यूनिवर्स-

    दकियानूसी विचारों को फिर तार-तार कर दिया।
    मिस यूनिवर्स का खिताब २१साल बाद फिर अपने नाम कर दिया।
    सब का मन हर लिया 'हरनाज' तुमने!
    हम सब को नाज़ है 'हरनाज' तुम पे।
    ©shanti_devi

  • shanti_devi 71w

    मां सरस्वती

    हे हंस वाहिनी, विद्यादायिनी,
    सबके अवगुण हरती मां
    हे विशालाक्षी, सर्व साक्षी
    सबको सुख देती मां
    हे सतरूपा, साहित्य, तीव्रा
    कलारूपणी मां
    अंधकार को दूर भगाती
    वीणापाणी मां



    ©shanti_devi

  • shanti_devi 74w

    दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र त्याग, बलिदान और स्वाभिमान का पर्व है।
    हमने भारत भूमि पर जन्म लिया, हमें इस बात का गर्व है।।
    ©shanti_devi

  • shanti_devi 74w

    नेताजी

    तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा!
    जिस पराक्रमी ने यह नारा हमें दिया।
    आज पराक्रम दिवस भी उसी के नाम हुआ।।
    ©shanti_devi

  • shanti_devi 75w

    तुम से मुहब्बत भी कोरोना की तरह है,।
    न बता सकते हैैं, और न छुपा सकते हैं।।
    ©shanti_devi

  • shanti_devi 75w

    अहंकार के साक़ी को अब बात समझ यह आई है,
    नकचढ़े कंगारुओं को उनकी धरती पर धूल चटाई है।
    पलट के बाज़ी साकिबों ने भारत को जीत दिलाई है।।
    ©shanti_devi

  • shanti_devi 76w

    आर्मी डे-

    जिसकी रक्षा से रक्षित ये वतन है,
    जिसके प्राणों में बस वतन- वतन है।
    हे! मेरे देश के वीर जवानों तुम्हें,
    कोटि-कोटि नमन-नमन है।।
    ©shanti_devi

  • shanti_devi 76w

    विवेकानंद

    जन-जन की वाणी कविता का छंद हो जाए।
    हर बाग- बाग यहां मकरंद हो जाए।
    मेरी ईश्वर से बस यही दुआ है कि,
    मेरे देश का हर युवा विवेकानंद हो जाए।।
    ©shanti_devi

  • shanti_devi 76w

    हिंदी मन्नत हिंदी जन्नत हिंदी ही अरदास है।
    हिंदी ख्वाहिश, हिंदी चाहत हिंदी सबसे खास है।।
    हिंदी डगर है, हिंदी मंजिल हिंदी ही एक आस है।
    हिंदी शक्ति हिंदी भक्ति हिंदी होशोहवास है।।
    ©shanti_devi