singhashwni

instagram.com/dil._se._?igshid=110z9v654q650

i write when I feel most alive. follow the page on instagram

Grid View
List View
Reposts
  • singhashwni 5w

    गिरा नहीं हूं केवल फिसला हूं ,
    जीत की उम्मीद में आज फिर निकला हूं ,
    हटाकर बादल अपनी नाकामी के ,
    अंधेरी रात को तपते सूरज में बदला हूं ।

    @dil._se._

  • singhashwni 6w

    गर बयां करूं सब कुछ तो ये एक नज़्म है,
    तेरा कहा अब सब कुछ बस एक ज़ख्म है,
    मन शांत और मिजाज़ न जाने क्यों गर्म है,
    खामोशी के तले दबा एक नया सा मर्म है ।
    गर बयां करूं सब कुछ तो ये एक नज़्म है ।


    @dil._se._

  • singhashwni 6w

    मैं गम छुपाए बैठा हूं वो इस किस्म की बात करता है
    मैं दिल लगाए बैठा हूं वो जिस्म की बात करता है
    न मिल सका मुझे वो , न मिली उसे उसकी चाह ,
    मैं सब सच माने बैठा हूं ,वो तिलिस्म सी बात करता है|

    @dil._se._

  • singhashwni 6w

    ठिठुरती ठंड में सूरज की कोई किरण जैसे,
    घने जंगल में ढूंढे कस्तूरी कोई हिरण जैसे,
    ख्वाहिश है कि मिलूं तुझसे फिर एक बार ,
    हृदय में कर रहा ख्याल कोई विचरण जैसे।

    @dil._se._

  • singhashwni 6w

    है बिम्ब का ये सार है,
    न हार मुझे स्वीकार है,
    अब मन भी तैयार है,
    जीत की हुंकार है ,
    आतिशाें की मार है ,
    है बिम्ब का ये सार है ।

    @dil._se._

  • singhashwni 6w

    सूर्य का सा तेज मैं, नीर सा शिथिल मैं
    पवन भी नतमस्तक हो , आऊं जब भी आवेश में
    तिमिर का भय नहीं, दीप सा ज्वलित मैं
    अनंत का भी अंत हो, आऊं जब भी आवेश में ।

    @dil._se._

  • singhashwni 7w

    यूं तो सुधर सा गया हूं तेरे अक्स में बहुत ,
    जो फिर से बिगड़ जाऊं तो मसला क्या है ?
    यूं तो मिलता हूं अक्सर ख्यालों में उससे ,
    जो असल में बिछड़ जाऊं तो मसला क्या है ?
    यूं तो जी रहा हूं लिख लिख कर रोज उसे ,
    जो असल में गुजर भी जाऊं तो मसला क्या है ?

    @dil._se._

  • singhashwni 11w

    तेरे शहर की आवारा रात, एक किस्सा कह गई,
    ढूंढता रहा जिसमें तुझको,मेरा वो हिस्सा ले गई ,
    ख्वाइश है कि तेरी परछाईं को देख सकूं ,
    बारिश एक बूंद तेरा सहसा दे गई ।

    @dil._se._

  • singhashwni 11w

    ख्वाईश तो है कि ऐसा कोई खयाल भी न हो,
    एक दिन गर तुझे न सोचूं तो मलाल भी न हो ।

    @dil._se._

  • singhashwni 11w

    दुःख, अफसोस, चिंता और वेदना, सबसे विहीन मैं,
    अंतिम क्षण हो जैसे मेरा , तब भी तुझमें विलीन मैं।

    @dil._se._