sramverma

sramverma.blogspot.com/

मेरे विशुद्ध भावों की अभिव्यक्ति है मेरी कविताएं; या यूं कहूं की मेरे पुरूषत्व के अंदर कहीं छुपी स्त्री है मेरी कविताएं।

Grid View
List View
Reposts
  • sramverma 2d

    Date 20/5/2022 Time 08:09 AM #SRV # prem

    प्रेम मौन होता हैऔर
    इश्क़ वाचाल होता है।

    ©sramverma

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner

    Read More

    प्रेम मौन होता है और;
    इश्क़ वाचाल होता है।
    ©sramverma

  • sramverma 4d

    Date 18/5/2022 Time 08:09 AM #SRV # prem

    मोहब्बत उस देह
    को अपने रंग में
    रंग कर अपना
    वंश बेल बढाती है !

    ©sramverma

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner

    Read More

    प्रेम।

    प्रेम
    स्वच्छंद आत्माओं
    को भी देह में कैद
    कर देता है फिर
    मोहब्बत उस देह
    को अपने रंग में
    रंग कर अपना
    वंश बेल बढाती है !
    ©sramverma

  • sramverma 5d

    Date 17/5/2022 Time 11:09 AM #SRV #yaden

    क्यूँ यादें तेरी आ आ
    कर अपने हिस्से की
    मुस्कुराहटें मेरे होंठों
    से छीन ले जाती है !

    ©sramverma

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner

    Read More

    यादें।

    क्यूँ यादें तेरी आ आ
    कर अपने हिस्से की
    मुस्कुराहटें मेरे होंठों
    से छीन ले जाती है !
    ©sramverma

  • sramverma 1w

    Date 14/5/2022 Time 11:09 AM #SRV #sahitya

    स्त्रियों ने जीता
    अपने अपने हिस्सों
    के सभी युद्धों को
    वो नहीं जीत पाई
    तो केवल अपने अपने
    हिस्से आए पुरुषों का
    पूरा का पूरा दिल !

    ©sramverma

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner

    Read More

    स्त्रियों ने जीता
    अपने अपने हिस्सों
    के सभी युद्धों को
    वो नहीं जीत पाई
    तो केवल अपने अपने
    हिस्से आए पुरुषों का
    पूरा का पूरा दिल !
    ©sramverma

  • sramverma 1w

    Date 11/5/2022 Time 11:29 AM #SRV #rachanaprati172 @jigna_a @jigna___

    प्रेम में
    इतनी सहजता तो
    अवश्य होनी चाहिए
    कि हमें एक दूसरे से
    संवाद स्थापित करने
    के लिए किसी विषय
    वस्तु या परिस्थिति के
    अधीन होकर न रहना
    पड़े न ही संवाद स्थापित
    करने के लिए सदा शब्दों
    का मोहताज़ होना पड़े !

    ©sramverma

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner

    Read More

    प्रेम।

    प्रेम में
    इतनी सहजता तो
    अवश्य होनी चाहिए
    कि हमें एक दूसरे से
    संवाद स्थापित करने
    के लिए किसी विषय
    वस्तु या परिस्थिति के
    अधीन होकर न रहना
    पड़े न ही संवाद स्थापित
    करने के लिए सदा शब्दों
    का मोहताज़ होना पड़े !
    ©sramverma

  • sramverma 2w

    Date 10/5/2022 Time 11:29 AM #SRV #sahitya

    स्त्री के मन का
    साहित्य पढ़ लेना
    वाला पुरुष कुछ
    और बन पाए या
    न बन पाए पर वो
    एक सहृदय कवि
    जरूर बन जाता है !

    ©sramverma

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner

    Read More

    स्त्री के मन का
    साहित्य पढ़ लेना
    वाला पुरुष कुछ
    और बन पाए या
    न बन पाए पर वो
    एक सहृदय कवि
    जरूर बन जाता है !
    ©sramverma

  • sramverma 2w

    Date 08/5/2022 Time 09:15 AM #SRV #virah

    दुनिया जिस सूरत को बदस्तूर कह कर दुत्कार देती है;
    मां तू उस सूरत को भी कैसे अपने प्यार से संवार देती है।

    ©sramverma

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner

    Read More

    मां।

    दुनिया जिस सूरत को बदस्तूर कह कर दुत्कार देती है;
    मां तू उस सूरत को भी कैसे अपने प्यार से संवार देती है।
    @SRamverma

  • sramverma 2w

    Date 07/5/2022 Time 11:15 AM #SRV #virah

    मुझे अपनी जां से भी ज्यादा अज़ीज़ है
    तुम्हारी मुझको दी हुई हर एक निशानी
    चाहे वो तुमसे बिछुड़ने का दर्द हो या
    हो फिर विरह में बहता आँखों का पानी !

    ©sramverma

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner

    Read More

    मुझे अपनी जां से भी ज्यादा अज़ीज़ है
    तुम्हारी मुझको दी हुई हर एक निशानी
    चाहे वो तुमसे बिछुड़ने का दर्द हो या
    हो फिर विरह में बहता आँखों का पानी !
    ©sramverma

  • sramverma 2w

    Date 06/5/2022 Time 10:40 AM #SRV #zeendagi

    ये ख़ुशी,
    ये रंगतें,
    ये मुस्कुराहटें,
    बस दिखावे की हैं,
    सच कहूं तो तुझसे दूर रह कर
    ये गुलिस्तां सी ज़िन्दगी
    भी जैसे श्मशान सी है !!

    ©sramverma

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner

    Read More

    ये ख़ुशी,
    ये रंगतें,
    ये मुस्कुराहटें,
    बस दिखावे की हैं,
    सच कहूं तो तुझसे दूर रह कर
    ये गुलिस्तां सी ज़िन्दगी
    भी जैसे श्मशान सी है !!
    ©sramverma

  • sramverma 2w

    Date 05/5/2022 Time 11:08 AM #SRV #tamge

    तुम कहते हो
    तुम बड़े हो गए हो
    मैंने तो अभी तुम्हे
    ठीक से रोते हुए भी नहीं देखा
    फिर कैसे मान लूँ कि
    तुम जो कहते हो कि
    मैं बड़ा हो गया हूँ
    वो सही है क्यूँकि
    बेटे बड़े तुम तब होंगे
    जब तुम खुल के रोने के बाद
    खुद के आंसूं खुद पोंछ कर
    किसी ओर को रोने से बचा लोगे
    इसलिए अभी मत कहा करो
    कि मैं बड़ा हो गया हूँ !

    ©sramverma

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner

    Read More

    मैं बड़ा हो गया।

    तुम कहते हो
    तुम बड़े हो गए हो
    मैंने तो अभी तुम्हे
    ठीक से रोते हुए भी नहीं देखा
    फिर कैसे मान लूँ कि
    तुम जो कहते हो कि
    मैं बड़ा हो गया हूँ
    वो सही है क्यूँकि
    बेटे बड़े तुम तब होंगे
    जब तुम खुल के रोने के बाद
    खुद के आंसूं खुद पोंछ कर
    किसी ओर को रोने से बचा लोगे
    इसलिए अभी मत कहा करो
    कि मैं बड़ा हो गया हूँ !
    ©sramverma