Grid View
List View
Reposts
  • tiwaripriti 85w

    पुराना-नया वर्ष

    अब तक जो बीत गया
    वो हर लम्हा जैसा भी था...

    बहुत ही संकट और संघर्षो से भरा था
    फिर भी वो पुराना साल बीत गया...

    कितने ही अनहोनी घटनाओं का
    हमने मिलकर किया,डटकर सामना

    इस साल ना जाने
    कितना कुछ सहन किया हम सभी ने

    फिर भी वो मुश्किल हर लम्हा बीत गया..
    नहीं कभी देना तुम उलाहना

    उन बीते लम्हों का
    और इस पुराने साल का

    जो था भाग्य में वही हमपर घटित हुआ
    फिर क्यों कोसना इस पूरे साल को

    बहुत ही आदर और सम्मान के
    साथ अलविदा करना इस साल का

    ताकि आनेवाला ये नया साल
    सारे संकट को पल भर में दूर करे

    और हमारे जीवन में लाए
    सिर्फ खुशियाँ ही बेशुमार

    मिलजूल कर करना ओ मेरे प्यारो
    इस नये साल का सुआगमन
    ©tiwaripriti

  • tiwaripriti 91w

    शुभ दिवाली

    दीपो का ये त्योहार दिवाली
    खुशियो का ये भंडार दिवाली
    रोशन आज की रात दीपो से

    सजी है रंगोली हर द्वारे पे
    लाये मन मे खुशियाँ ये दिवाली
    ना हो कोई भी बंधन इस दिवाली

    लक्ष्मी माँ और गणेश जी की
    आओ कर ले हम सच्चे मन से पूजा
    इनसे ही चलता है ये संसार पूरा
    दीपो का ये त्योहार दिवाली

    ©tiwaripriti

  • tiwaripriti 94w

    #prayasss71

    #prayasss70
    @mitttal_saab @amateur_skm @mamtapoet
    @maakindhi @in_my_heart @jigna_ आप सभी की रचनाएँ एक से बढ़कर एक थी माता रानी के स्वरूप का वर्णन आप सभी ने बहुत ही सुन्दर ढंग से प्रस्तुत किया आप सभी की रचनाओं को पढ़कर मन को बहुत अच्छा लगा आप सभी ने इस प्रयास की श्रृंखला को आगे बढ़ाने में सहयोग दिया आप सभी को तहे दिल से शुक्रिया
    अब मैं मंच के अगले संचालन के लिए मैं @mamtapoet
    जी को आमंत्रित करती हूँ। मुझे विश्वास है कि आप इस संचालन का दायित्व बखूबी निभाऐंगी। आप एक सुन्दर शीर्षक देकर इस प्रयास की श्रृंखला को आगे बढ़ाये।
    आपको बहुत बहुत बधाई
    धन्यवाद
    ©tiwaripriti

  • tiwaripriti 94w

    माँ दुर्गा रूप

    हे महिषासुर मर्दिनी हे शक्ति स्वरूपिणी
    हे माँ जगजननी हे संकट हारिणी
    हे शुंम्भ निशुंम्भ विनाशिनी
    हे अष्टभुजा रूप धारिणी
    दुर्गा तू ही काली भी तुम्हीं
    लक्ष्मी तुम्ही सरस्वती भी तुम्हीं
    जग की आधारभूत शक्ति भी तुम्हीं
    सृष्टि की मोह माया भी तुम्हीं
    घोर रौद्ररूपा भी हो तुम्हीं
    आदिशक्ती तुम्हीं जगदम्बा भी तुम्हीं
    तुम ही हो आदि और अंत भी तुम्हीं
    सारे देवता जन की हो शक्ति भी तुम्हीं
    हो विश्व की सृजनकर्ता भी तुम्हीं
    तुमसे ही है सृष्टि की सुंदर कल्पना सभी
    सबसे सच्चा है बस तेरा ही दरबार माता रानी
    करना अपने सारे भक्तों पर सदा ही उपकार माता रानी
    ©tiwaripriti

  • tiwaripriti 95w

    माँ दुर्गा रूप

    नवरात्री का आया पर्व सुहाना
    माता रानी इस धरा पर आ जाना

    अपनी कृपा हम पर बरसा जाना
    छाया हुआ है घोर संकट इस महामारी का

    अष्टभुजा रूप धारण कर इस महामारी रूपी दानव का
    हर अस्तितत्व ही मिटा जाना

    माँ तू तो है करुणामयी शक्ति स्वरूपा जगदम्बा
    माँ तेरे जैसा नहीं कोई इस जग में दूजा

    चाहे कोई भी निर्धन हो या कोई भी धनवान
    माँ तों रखती सब पर दृष्टि एकसमान

    इस घोर कलियुग में नहीं रहा
    कोई भी धर्म या ईमान

    हर तरफ मचा हुआ है
    बस अत्याचार और कोहराम

    माँ बस तु ही है जो लगा सकती है इस जग का बेड़ा पार
    इस मतलब भरी दुनिया में बस माँ तेरा ही सहारा है

    इस नवरात्री पर अपने हर भक्तों पर माँ
    कृपा दृष्टि और खुशियों से झोली भर जाना

    जो करे सच्चे मन से माँ तेरी पूजा
    उस पर अपनी दया दृष्टि बरसा जाना
    ©tiwaripriti

  • tiwaripriti 95w

    #prayasss70 "माँ दुर्गा का रूप" @goldenwrites_jakir
    @rnsharma65 @munka_niraj @kanchanjha @mamtapoet

    Read More

    #prayasss70

    विषयः"माँ दुर्गा का रूप"
    मीराकी परिवार के सभी लेखको को मेरी तरफ से सादर
    सप्रेम तथा प्रयास की श्रृंखला को अभिनंदन ।
    सबसे पहले मैं @goldenwrites_jakir ji को तहे दिल से शुक्रिया व्यक्त करती हूँ जिन्होंने मुझे संचालन का दायित्व सौपा है जिसके लिए मै उनका बहुत बहुत आभार व्यक्त करती हूँ
    आज का #prayasss70 का Topic "माँ दुर्गा का रूप"
    नवरात्री का पालन पर्व चल रहा है इसलिए मैं चाहती हूँ कि आप सभी माँ दुर्गा के स्वरूप, उनके ममतामयी रूप का वर्णन उनका गुणगान करे। इस सृष्टि की आधारभूत शक्ती माँ दुर्गा ही हैं जो हमेंशा अपने भक्तों पर कृपा दृष्टि बनाये रखती हैं आप सभी अपनी लेखनी के माध्यम से उन्हीं माता रानी के रूप का वर्णन कीजिए ।
    मेरा आप सभी से विशेष अनुरोध है की #prayasss70 की इस श्रृंखला में अधिक से अधिक संख्या में योगदान देकर इसे आगे बढ़ाने की कोशिश करें।
    ©tiwaripriti

  • tiwaripriti 95w

    क्षमा दान

    जिस इंसान में क्षमा दान करने का विशेष गुण होता है
    समझ लो वह इंसान किसी भगवान से कम नहीं होता है
    क्योंकि इंसान के अंदर इतना धैर्य नहीं होता है
    जो हजारों गलतियाँ होने के बावजूद भी वह क्षमा दान करे
    ये गुण तो सिर्फ भगवान में ही होता है
    किंतु इस संसार में भी ऐसे विशेष गुणी
    इंसान भी कभी कभार मिल जाते हैं
    ©tiwaripriti

  • tiwaripriti 95w

    जय माता दी

    मैया आई मेरे द्वारे
    करके शेरो पे सवारी
    मैया के स्वागत की
    आओ मिल करे तैयारी

    राहों मे माँ के फुल बिछा के
    सबसे पहले तुम पूजा की
    थाल सजाओ,उसमे रोली
    और घी का दीप जलाओ

    माँ की आरती करके
    उनके चरणों मे भक्तो
    शीश झुका कर माँ के
    तुम चरण पखारो

    माँ मेरी सुन लेती अपने
    भक्तो की करूण पुकार
    आओ भक्तो मिल करे
    माँ का सुंदर श्रृंगार

    माँ की महिमा तुम क्या जानो
    निर्बल हो या कोई बलवान
    निर्धन हो या कोई धनवान
    माँ की दृष्टी में सब एक समान

    माँ के आने से घर हो स्वर्ग समान
    आओ भक्तो मिल करे माँ का गान
    मैंया आई मेरे द्वारे
    करके शेरो पे सवारी
    ©tiwaripriti

  • tiwaripriti 95w

    माँ की महिमा

    आ जाना,आ जाना
    मैया आ जाना
    हमने तुम्हें दिल
    से है पुकारा

    भक्तजनो का मैया
    हो तुम ही सहारा
    मैया अपनी कृपा
    भी बरसा जाना

    जो हमने मांगी मुरादे
    उसे पूरी कर जाना
    भक्ति में जो हैं डुबे
    मैया उसे पार लगा जाना

    आ जाना आ जाना
    मैया आ जाना
    हमने तुम्हें है दिल
    से है पुकारा

    आँखों में अश्रु हो
    जिनके भी मैया
    उनको भी मैया
    खुशियाँ दे जाना

    जिनकी झोली
    हो सुनी मैया
    उनकी झोली
    तुम भर जाना

    इस धरती को
    भी मैया तुम तो
    अपने कदमों से
    स्वर्ग बना जाना

    आ जाना,आ जाना
    मैया आ जाना
    हमने तुम्हें दिल
    से है पुकारा
    ©tiwaripriti

  • tiwaripriti 95w

    मृत्यु

    जीवन का सबसे बड़ा सच होता है मृत्यु
    क्या लिखा है नसीब में ये तो वक्त ही बताएगा

    राजा हो या रंक कोई भी सबका
    अंत इक ही जैसा होता है

    ये तो अटल सत्य है मृत्यु का कोई लाख करे कोशिश
    फिर भी इसे कोई भी नहीं झूठला पाएगा
    ©tiwaripriti