viz_writes

eko zindagi vich duja naam keda!!!

Grid View
List View
Reposts
  • viz_writes 13w

    Eh

    मैंने कहां ही कहा है
    कि तुम गलत हो
    बस तुमने कभी पूछा नही
    और
    हमने कभी बताया नही
    ©viz_writes

  • viz_writes 13w

    अजनबी शहर और बेगानी रातें

    Read More

    eh

    बस रह रह के खयाल आते हैं
    उस शहर का जो कभी मेरा था

    ©viz_writes

  • viz_writes 14w

    Eh

    these nights are peaceful after whole day chaos
    i sing with no voice but it rhymed
    i talked with no sense but had a convo
    can i borrow more of these?
    who knows but i came here to see some of you
    treat me like stranger & leave me with that
    ©viz_writes

  • viz_writes 47w

    Eh

    मत ठहर मुसाफिर
    ये तो सफर की शुरूवात है

    हर कदम पर तू तेरे साथ है
    हौसला ही तेरा अब साथी है

    कोशिश ही तेरा अस्त्र है
    भले ही विफल हो

    परन्तु विफलता को सफ़लता मैं
    बदलना ही तेरी ज़िद्द और मंजिल भी |

    ©viz_writes

  • viz_writes 47w

    Eh

    जब मेरा ही मेरा ना रहा
    तो छोर दिया
    जब बिना बोले ही चल दिए
    तो जाने दिया
    ©viz_writes

  • viz_writes 47w

    Eh

    अब खबर नहीं इन दीवारों को
    जो मन के चार दिवारी मे बस गया
    अब शोर नही इस बहती हवा का
    जो सन्नाटे को हटा सके

    ©viz_writes

  • viz_writes 59w

    Bahut dino se kuch likha hi nhi

    Read More

    eh

    कभी गुलजार बना राही
    आज कबीर के दोहों से मन बहलाता है
    ©viz_writes

  • viz_writes 99w

    मैंने ख्वाब देखा ऐसा
    जहां कहने को मंज़िल
    पर हकीकत एक संघर्ष
    और मैं बढ़ता चला गया ।।

    मैंने ख्वाब देखा ऐसा
    जहां कल्पनाएं आसमान छू रही थी
    पर वही मनोबल जमीन की गहराई नापने लगा
    और मैं बढ़ता चला गया ।।

    मैंने ख्वाब देखा ऐसा
    जहां समय पानी की तरह बह रहा
    पर वही अस्तित्व के अर्थ की परिभाषा मिली
    और मैं बढ़ता चला गया ।।

    मैंने ख्वाब देखा ऐसा
    जहां वार दिनांक से मुलाकात नहीं हुई
    पर वही दिन रात ढलते नजर आए
    और मैं बढ़ता चला गया ।।

    मैंने ख्वाब देखा ऐसा
    जहां प्रतिक्षण एक प्रश्न बना बैठा था
    पर वही हर उत्तर का जवाब छुपा है
    और मैं बढ़ता चला गया ।।

    मैंने ख्वाब देखा ऐसा
    जहां भावनाओं से मोह का त्याग हुआ
    पर वही रिश्तो की मजबूत नींव रखी
    और मैं बढ़ता चला गया ।।

    मैंने ख्वाब देखा ऐसा
    जहां शहर के शोरगुल में भी मोन बसा था
    पर वही सफलता की आवाज भी आएगी
    और मैं बढ़ता चला गया ।।

    Read More

    eh

    एक कहानी उस ख़्वाब की।।

    ©trashoutofme

  • viz_writes 99w

    eh

    वक़्त की बेवजह बातों का क्या

    जो लगातार होती रहती है

    वक़्त के तले दबा इंसान

    जो रास्ता बनाता रहता है

    वक़्त के मोहताज सभी

    जो गहराइयों को पार करते है

    वक़्त के दो पहलू फिर भी एक

    जो कल से आज तक सफर करता है

    वक़्त के जज्बातों का निरंतर बदलाव

    जो पल भर से एक पल का इंतज़ार करता है

    ©trashoutofme

  • viz_writes 101w

    have you ever just wondered?
    everybody is just for a reason
    it can be materialistic and cosmic
    it's an illusion we are living in
    and thinking that everything will be good
    what's there outside is different zones
    everybody created their zones
    and what if everybody started pinching
    that it's gonna breathe out
    but we can stay for a while
    things turn up into something
    you never assumed
    you by distracting every another moment
    but eventually nothing gonna stop
    but until you stabilize chaos of your mind
    and people will judge you
    let them judge
    it's you and your world
    and make sure you know
    everything has its end
    either feel nothing and breathe alive
    cause in the end you have to prove
    your existence
    create what you meant for
    only way people think that
    their problem is small
    but why we need to compare even
    so you keep it close and realise
    it's not meant for sharing and
    cause sharing can be haunted sometimes
    you start living in the mere fact that
    may something or some moment
    you can still have
    but once star is broken it can never
    relocate its self to same position
    you started writing but I can guess
    that's not writing but started radiating
    looking around the world you can see chaos
    but one thing for sure you can do it stabilizing
    things slowly not in hurry and
    let it grow so deeply which stays for longer
    always create that you dive into
    countless questions and feel like
    it's meant for you

    Read More

    eh

    an overthinking tale

    ©trashoutofme