wearyearl

amzn.to/3pjx4X8

PUBLISHED WRITER ON AMAZON A F T E R N I G H T T

Grid View
List View
Reposts
  • wearyearl 3w

    ©Rohitshrivastav
    #wearyearl #afternightt

    Read More

    Baato Me Kho Jana,
    Waqt Ka Reth-Sa Phisal Jana,
    Ek Nasha Hai, Ishq Ka.

    Khyalo Me Ghum Hona,
    Waado Ka Bikhre Panne Bator-na,
    Ek Zakhm Hai, Ishq Ka.

    wearyearl

  • wearyearl 4w

    Baatein Hui Jo Shuru,
    Karne Lagi Guftagu.

    Phir Na Jaane Kyu Mujko Teri,
    Yaadein Aane Lagi.

    Tere Sawalo Me, Tere Jawabo Me,
    Aane Lagi Phir Hasi.

    Doondha Bahut Tujhey,
    Par Tuna Mili Kahi.

    Aaja Tu Phir Laut Ke Kahi.

    wearyearl

  • wearyearl 4w

    ©Rohitshrivastav
    #wearyearl #afternightt

    Read More

    I'll back!

    Come here near me, you know.
    It's less time.
    But, it's all fine.
    Just Promise me today.
    I'm back before you know.

    Don't you worry.
    You meep smiling and blazing.
    Like every twinkling sky.
    I'll be back before you know.
    I'm sorry.
    If I get late low with busy schedule.
    Just promise Me today.
    I'll be back before you know.

    Come here near me, you know.
    It's hard to come at your time.
    But, I'll be fine.
    Just take my promise today.
    I'll never let your trust break,
    Right like a crushed paper.

    I'll always be right next you there.
    Every night to beautify you.
    With intoxicating nectar rose's drop.
    I'll be back before you know.
    Just promise Me today.
    You'll Keep smiling and blazing.
    Like every triss's emoji.
    I'll be back before you know.

    -rohit shrivastav
    wearyearl

  • wearyearl 5w

    ©Rohitshrivastav
    #wearyearl #afternightt

    Read More

    I Got Her Hoax Face,
    With Specious Red Dress,
    Sitting On A Blurry Promises,
    Waiting At A Love Verse.

    wearyearl

  • wearyearl 5w

    ©Rohitshrivastav
    #wearyearl #afternightt

    Kabhi Dilo Se Fursat Mile, To Aao
    Sabdo Se Bhi Khele.

    Read More

    मैं अंधेरों का सितारा हूं,
    आशिकों के दिल का फ़साना हूं।

    किया हो इंतजार जिसने, उस बेवफा का
    दुआ-ए-मुकमल के लिए,
    मैं उस इंतज़ार का अधूरा ख़्वाब हूं।

    लगते हैं जाम जिस शमा के नीचे,
    मैं उस शमा का शुमार शबाब हूं।

    wearyearl

  • wearyearl 5w

    Dil par,
    Shuki, Be-Lakiri Hatheliyo Se
    Khud Ko Samja Leta Hun Ab, Mai

    Duniya Kahu Ya Zindagi-
    E-Zindagni, Ghao Par
    Marham-E-Zakhm Laga Leta Hun Ab, Mai

    -wearyearl

  • wearyearl 5w

    ��
    -rohitshrivastav
    #wearyearl #afternightt

    winter�� always win.

    Read More

    Kaisa Hota!

    कैसा होता है !
    किसी से, किसी का दूर जाना।
    इश्क-ए-ज़ाम में फना,
    एक दिन बिखर जाना।

    दिखता तो है !
    दूर चांद की चांदनी सा।
    सितारों की रातों में गुमा,
    पास हो कर दूर जाना।

    करीब है, या छुपा है !
    हथेली पर कुछ छूटा सा।
    सपनों के सवेरे में खोया,
    उठते, टूट कर बिखर जाना।

    सामने है !
    जुल्फों के, काले बदलो सा।
    मोहब्बत-ए-मोहल्लों, से शुमार,
    किताब से पन्नों का दूर जाना।

    -रोहित श्रीवास्तव
    wearyearl

  • wearyearl 6w

    ��
    -rohitshrivastav
    #wearyearl #afternightt

    Read More

    आज फिर बेकल है मन, गुमा हो रहा है जैसे,
    जिस्म जल रहा है और धुआं-धुआं हो रहा हूं मैं ।

    -wearyearl

  • wearyearl 7w

    ��
    -rohitshrivastav
    #wearyearl #afternightt

    Read More

    Thoda Sabar Kar Jaana

    Abhi To Har Ek Waadon Par,
    Ek Raat Barbaad Karna Hai.

    Abhi To Ishq-E-Jaam Ko,
    Ek Shaam Weeran Karna Hai.

    wearyearl

  • wearyearl 8w

    ��
    -rohitshrivastav
    #wearyearl #afternightt

    Read More

    #2

    दिल कितना भी चाहे मगर उसे चुप रहना सिखा देना,
    आवारा हवाओं से, तुम कहीं दिल ना लगा लेना।

    वो आंखें जिन्होंने संग-संग ख्वाब बुना था।
    वो दिल जिन्होंने एक दूजे का साथ चुना था।
    वो कदम जिन्होंने हर मोड़ पर मिलने का वादा किया था।
    ना बिछड़ेंगे कभी हम जिन्होंने ऐसा इरादा किया था।

    फिर दिन बदला मौसम बदला और हालात बदल गए,
    फिजाओं ने यूं रुख मोड़ा कि हर जज्बात बदल गए,
    अब सिर्फ एक यादों का जजीरा मेरे साथ चलता है।

    ये दिल फिर कोई नया ख्वाब बुनने से डरता है,
    चंद दिनों की खुशियां फिर उम्रभर के गम मिलते हैं।

    इन राहों पर जो जख्म मिले वो ना कभी सिलते हैं,
    तुम अपने जीवन को दुख का संसार ना बना लेना।
    आवारा हवाओं से तुम कहीं दिल ना लगा लेना।

    रोहित श्रीवस्तव
    -wearyearl