Grid View
List View
Reposts
  • writes_unknown 155w

    नज़रे भी मिलाना गवारा नहीं अब उनसे,

    जिनहें कभी हम अपना खुदा मानते थे......
    ©writes_unknown

  • writes_unknown 156w



    गर मिली न होती यारी मुझे उन लोगों जैसी
    तो शायद आज भी दोस्ती पर भरोसा बेहिसाब ही रहता....
    ©writes_unknown

  • writes_unknown 157w

    नहीं बनना मुझे किसी की baby, shona
    मैं अपने माँ-पा की गुड़िया ही ठीक हूँ
    जी नही डालना मुझे "in a relationship" वाला status
    मैं #single में ही बहुत खुश हूँ.......
    ©writes_unknown

  • writes_unknown 157w

    तनहाइयों में रेहने की आदत
    मैनें अभी से डाल ली है,
    ना जाने ये बचे हुए कुछ अपने भी
    कब अजनबी बन जाए.....
    ©writes_unknown

  • writes_unknown 157w

    One of My favorite����...

    Read More

    हम दिखा रहे थे उन को
    चूड़ियों से भरी बाहें अपनी
    वो फिर भी
    आंखों से मिटे काजल की वजह पूछते रहे...........
    ©writes_unknown

  • writes_unknown 157w



    गर कभी तेरे अलावा किसी की बाहों में नज़र आऊंगी,

    तो वो दिन होगा जब..

    एक नहीं चार कंधों पे सोई पाऊँगी.......।
    ©writes_unknown

  • writes_unknown 158w

    बड़ी अजीब सी बात हुई है इस दफा की बारिश में,
    औरों की गलियों से ज्यादा
    तो मेरी आँखे नम थी......
    ©writes_unknown

  • writes_unknown 158w

    लौट कर मत आना

    बड़ी मुश्किल से यह कदम नई सुबह की ओर बढे है,
    लौट कर अब किसी शाम वापस मत आना......
    अभी ही तो रोशनी से मुलाक़ात हुई है,
    फिर से मेंरे जहान में अंधेरे की चाह मत लाना........
    गुज़ारिश है तुमसे की अब लौट कर मत आना।।
    ©writes_unknown

  • writes_unknown 158w

    Bhulane ko to hm aj bhi sb kuch hs kr bhula de
    agr tu khud ko bhulane ki baat na khe...........
    ©writes_unknown

  • writes_unknown 159w

    Go Vote

    Milti ho bewafaai fir bhi wafa ki umeed rakh mohabbat bhi to yarr karte hi ho....
    Guzaarish hai meri ap sbbhi se dosto
    Rakh kar umeed imaandari ki is dfa vote bhi kr hi lo ..............
    ©writes_unknown