Grid View
List View
Reposts
  • zazbaat_ 5w

    कृपया अर्थ का अनर्थ ही निकाले।

    Read More

    उससे किस बात का गिला करू?
    जब वो खुद ही कहता था भरोसे वाले को ___&&__वाला बनने में समय नहीं लगता

  • zazbaat_ 11w

    नदी को तो मिल जाता है
    समुंदर का सहारा
    कहीं शांत बहता झरना सूख जाता है
    प्रीत की आस में

  • zazbaat_ 11w

    उस रिश्ते को उसने तब तक ज़िंदा रखा
    जब तक उसके उसके मकान में कोई दूसरा किरायेदार नहीं आ गया ।

  • zazbaat_ 13w

    His Favourite Lines ♥️

    Read More

    नाम निकलेगा तेरा ही लब से.....,
    जान जब इस दिल ए नादान से रुखसत होगी

  • zazbaat_ 13w

    क्यों.....?
    ना नाज़ करू इन अश्कों पर मैं....,
    तेरे दिए हुए हर तोहफ़े को संभाल कर रक्खा है मैने।
    ©zazbaat_

  • zazbaat_ 13w

    तकलीफें कुछ कम सी हो रही है
    मेरे दिल की दरअसल....,
    उम्मीदें ख़तम हो रही है अब तुझसे
    ©zazbaat_

  • zazbaat_ 13w

    अक्सर मोहब्ब्त के बाद नफरतों का दौर आता है
    जो मोहब्ब्त करने वालों को जीते जी मार जाता है।

    Read More

    सहम सा जाता था वो शख़्स
    मेरे एक पल के रूठने से
    हफ़्तों से ख़ामोश बैठी हूं
    उस बेरहम ने खबर तक ना ली ।
    ©zazbaat_

  • zazbaat_ 16w

    गोविन्द मेरो है गोपाल मेरो है
    श्री बांके बिहारी नंदलाल मेरो है

  • zazbaat_ 16w

    सिर पर चुनरी लाल
    माथे पे काली बिंदी पसंद है
    हां! मुझे अंग्रेज़ी से ज्यादा हिंदी पसंद है।

  • zazbaat_ 17w

    गर ठहर जाती...
    तो मंज़र ये ना होता
    तेरी आशिक़ी में हमने
    खुद को कहीं का ना छोड़ा